22 Sep

The third facet of Goddess Durga is ‘Chandraghanta’, who is worshipped on the third day of Navaratri, for peace, tranquility and prosperity in life. She has a ‘chandra’ or half moon in her forehead in the shape of a ‘ghanta’ or bell. That is why she is called ‘Chandraghanta’. She is charming, has a golden bright complexion and rides a lion. She has ten hands, three eyes and holds weapons in her hands. She is the apostle of bravery and possesses great strength to fight in the battle against demons. The color to wear on the third day is Grey. 

माँ चंद्रघंटा की पूजा इस मंत्र के उच्चारण से की जानी चाहिए

पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यां चन्द्रघण्टेति विश्रुता॥

मां चंद्रघंटा की पूजा। यहां पढ़ें मां चंद्रघंटा की आरती

नवरात्रि के तीसरे दिन चंद्रघंटा का ध्यान।

मस्तक पर है अर्ध चन्द्र, मंद मंद मुस्कान॥

दस हाथों में अस्त्र शस्त्र रखे खडग संग बांद।
घंटे के शब्द से हरती दुष्ट के प्राण॥

सिंह वाहिनी दुर्गा का चमके सवर्ण शरीर।
करती विपदा शान्ति हरे भक्त की पीर॥

मधुर वाणी को बोल कर सब को देती ग्यान।
जितने देवी देवता सभी करें सम्मान॥

अपने शांत सवभाव से सबका करती ध्यान।
भव सागर में फसा हूँ मैं, करो मेरा कल्याण॥

नवरात्रों की माँ, कृपा कर दो माँ।
जय माँ चंद्रघंटा, जय माँ चंद्रघंटा॥