10 Oct

कार्तिक व्रत की पूजा

कार्तिक का महीना लगते ही  पूर्णिमा से लेकर उतरते कार्तिक की पूनम तक रोज सुबह जल्दी उठकर गंगा में स्नान करके गंगाजी की पूजा करनी चाहिए । घर में भी स्नान कर सकते हैं । पांच ईंट या पांच पत्थर के टुकड़े रखकर पथवारी बनाए । पथवारी माता , तुलसी , बड़ , पीपल के पेड़ की पूजा करनी चाहिए । जल , रोली , चंदन , चावल , फल , प्रसाद चढ़ाये और धूप दीपक जलाकर आरती उतारें और दक्षिणा चढ़ाये । रोज पथवारी और तुलसी का भजन करना चाहिए । सायंकाल में भी दीपक जलाकर भजन आदि करना चाहिए । अगर हो सके तो कार्तिक का व्रत करें । कार्तिक में कार्तिक महात्म्य सुनना चाहिए ।