पुत्रदा  एकादशी

पुराणों  में  ऐसा  उल्लेख  मिलता  है  कि  पौष  मास  के  शुक्ल  पक्ष  की  एकादशी  का  व्रत  और अनुष्ठान  करने  से  भद्रावती  के  राजा   सुकेतु   को  पुत्र  रत्न  की  प्राप्ति  हुई  थी  | तभी  से  इसका नाम  पुत्रदा  अर्थात  पुत्र  देने  वाली  एकादशी  पड़ा | इस  दिन  भगवान  विष्णु  की  पूजा  का  विधान  है  इस  व्रत  के  करने  से  सन्तान  की  प्राप्ति  होती  है |

पुत्रदा  एकादशी  की  कथा

प्राचीन  काल  में  भद्रावती  नामक  नगरी  में  सुकेतु  नाम  के  राजा  राज्य  करते  थे | राजा  तथा उनकी  स्त्री  शैव्या  दानशील  तथा  धर्मात्मा  थे | सम्पूर्ण  राज्य , खजाना  धन  -  धान्य  से  पूर्ण  होने  के  बावजूद  भी  संतानहीन  होने  के  कारण  अत्यन्त  दुखी  थे | एक  बार  वे  दोनों  राज्य  भार  मंत्रियों  की  ऊपर  छोड़कर  वनवासी  हो  गए  था  आत्महत्या  के  समान  कोई  दूसरा  पाप  नहीं | इसी  उधेड़बुन  में  वे दोनों  वहां  आये ,  जहां  मुनियों  का  आश्रय   व  जलाशय  था | राजा  रानी  मुनियों  को  प्रणाम  कर  बैठ  गए | मुनियों  ने  योगबल  से  राजा  के  दुख  का  कारण  जान  लिया  और  राजा  रानी  को  आशीर्वाद देते  हुए ' पुत्रदा  एकादशी ' व्रत  रखने  को  कहा | राजा  रानी  ने  पुत्रदा  एकदशी  व्रत  रखकर  विष्णु भगवान  की  पूजा  की  और  पुत्र  रत्न  प्राप्त  किया |